जैविक कीट नियंत्रण

जैविक कीटनाशी दवाएं

1. नीमास्त्र

(रस चूसने वाले कीट एवं छोटी सुंडी इल्लियां के नियंत्रण हेतु) सामग्री :-

1. 5 किलोग्राम नीम या टहनियां
2. 5 किलोग्राम नीम फल/नीम खरी
3. 5 लीटर गोमूत्र
4. 1 किलोग्राम गाय का गोबर

बनाने की विधि

सर्वप्रथम प्लास्टिक के बर्तन पर 5 किलोग्राम नीम की पत्तियों की चटनी, और 5 किलोग्राम नीम के फल पीस व कूट कर डालें एवं 5 लीटर गोमूत्र व 1 किलोग्राम गाय का गोबर डालें इन सभी सामग्री को डंडे से चलाकर जालीदार कपड़े से ढक दें। यह 48 घंटे में तैयार हो जाएगा। 48 घंटे में चार बार डंडे से चलाएं।

Organic Pesticide

सर्वोत्तम कीटनाशक नीम

रासायनिक कीटनाशकों के कृषि, पर्यावरण एवं स्वास्थ्य विरोधी परिणामों को देखते हुए अब ऐसे वैकल्पिक कीटनाशकों के अनुसंधान पर जोर दिया जाने लगा है, जो

(१) मनुष्य एवं मानवेतर जीवों के लिए अल्प या शून्य हानिकारक तथा सुरक्षित हों

(२) जिसके जैवकीय विघटन होने से मिट्टी, जल एवं वायु दूषित न हों

(३) जिससे प्रतिकूल कीड़े ही मारे जा सकें, अनुकूल कीड़े नहीं

(४) जो लक्षित कीटों की प्रतिरोधी क्षमता विकसित न होने दे

(५) जो रासायनिक कीटनाशकों की अपेक्षा सस्ता, सहज प्राप्य एवं पार्श्व प्रभाव रहित हो

Organic Pesticide

जैविक कीटनाशकों से लाभ

  • जीवों एवं वनस्पतियों पर आधारित उत्पाद होने के कारण, जैविक कीटनाशक लगभग एक माह में भूमि में मिलकर अपघटित हो जाते है तथा इनका कोई भी अंश अवशेष नही रहता | यही कारण है इन्हें परिस्तिथतकीय मित्र के रूप में जाना जाता है |
  • जैविक कीटनाशक केवल लक्षित कीटों एवं बिमारियों को मारते है जब की कीटनाशक से मित्र कीट भी नष्ट हो जाते है |
  • जैविक कीटनाशकों के प्रयोग से कीटों/व्याधियों में सहनशीलता एवं प्रतिरोध नही उत्पन्न होता जबकि अनेक रसायन कीटनाशकों के प्रयोग से कीटों में प्रतिरोध क्षमता उत्पन्न होती जा रही है जिनके कारण उनका प्रयोग अनुपयोगी होता जा रहा है |

इल्ली ,रस चूसक कीड़े का नियंत्रण

इल्ली ,रस चूसक कीड़े को नियंत्रण करने के ( जैविक ओरगेनिक ) दवा बनाने तथा प्रयोग करने का तरीका

1. देशी गाय का मठा 5 लीटर लेकर उसमे २- 3 किलो नीम की पत्ती या 40-50 किलो नीम की खली या 2 किलो माइक्रो नीम ओरगेनिक खाद एक बड़े मटके में भरकर १० -१५ दिन तक सडाएं , सड़ने के बाद उस मिश्रण में से 5 लीटर मात्रा को 150 -200 लीटर पानी में मिलाकर प्रति सप्ताह छिडकाव करें . इससे इल्ली , रस चूसक कीड़े नियंत्रित होंगे .

2. 500 ग्राम लहसुन , 500 ग्राम तीखी चटपटी हरी मिर्च लेकर बारीक पीसकर 150-200 लीटर पानी में घोलकर फसलों पर छिडकाव करें . इससे इल्ली , रस चूसक कीड़े नियंत्रित होंगे .

Caterpillar

Pages